लघु सिंचाई

लघु सिंचाई
सुविधा का प्रकारअवधि ऋण (टीएल)
प्रयोजन
  • कुंआ खोदना या कुंए की मरम्‍मत/गहरा बनाना
  • नलकूप खोदना
  • एक बिजली/ डीजल पंप सेट की स्थापना
  • ड्रिप सिंचाई प्रणाली
  • छिड़काव सिंचाई प्रणाली
  • सिंचाई चैनल / पाइपलाइन लगाना
  • फार्म तालाब / पानी की टंकी
  • समग्र लघु सिंचाई, जिसमें ऊपर वर्णित एक से अधिक प्रयोजन शामिल हैं
पात्रतासभी किसान- व्यक्तिगत / संयुक्त भूमिधारक
रकम
  • नए खुदाई कुएं / पाइपलाइन / पंप सेट के लिए: नाबार्ड इकाई लागत / अनुमान के अनुसार
  • उपकरण / मशीनरी के लिए: मूल्य कोटेशन के अनुसार।
मार्जिन
  • 1.00 लाख रुपये तक सीमा - शून्‍य
  • 1.00 लाख से ऊपर तक सीमा - 15% से 25%

(उद्देश्य और वित्त की मात्रा के आधार पर)
ब्याज की दरकृषि अग्रिमों पर लागू ब्‍याज दर
सुरक्षा
  • फसलों, उपकरणों, मशीनरी और अन्य संपत्तियों का दृष्टिबंधन (हाइपोथेकेशन)
  • तीसरी पार्टी गारंटी/ भूमि का बंधक
पुनर्भुगतानपुनर्भुगतान क्षमता के आधार पर 7 से 11 वर्ष
पुनर्भुगतानऋण के उद्देश्य के आधार पर 5 से 9 साल
अन्य नियम और शर्तें
  • प्रस्तावित कुआं अच्छी तरह से सफेद वाटरशेड क्षेत्र में स्थित होना चाहिए। यह अंधेरे वाटरशेड क्षेत्र में नहीं होना चाहिए।
  • ग्रे वाटरशेड में नए कुएं की खुदाई के लिए जीएसडीए प्रमाण पत्र आवश्यक है।
  • बैंकों वित्त पोषण से निर्मित संपत्तियों का बीमा किया जाना है।
पेपर आवश्यकता
  1. ऋण आवेदन यानी फॉर्म संख्या -138, और संलग्नक - बी 2
    • सभी 7/12, 8 ए, 6 डी निष्कर्ष, आवेदक का चतुर्सीमा
    • पीएसीएस समेत आसपास के वित्तीय संस्थानों से आवेदक का बेबाकी प्रमाणपत्र
    • 1 लाख रुपये से ऊपर के ऋण के लिए बैंक के पैनल पर मौजूद वकील से कानूनी खोज, जहां भूमि बंधक होनी चाहिए
    • ऋण के उद्देश्य के आधार पर मूल्य कोटेशन/ योजना अनुमान/ अनुमतियां इत्यादि
  2. गारंटी फॉर्म एफ -138
    • गारंटीकर्ता के सभी 7/12, 8 ए और पीएसीएस बकाया प्रमाणपत्र