ग्रामीण विकास केंद्र

ग्रामीण विकास केंद्र - वर्ष 1984 में हडपसर और भिगवण में खोला गया।

उद्देश्य
  • कृषि, बागवानी और संबद्ध गतिविधियों जैसे कि डेयरी, मुर्गी पालन आदि के क्षेत्र में परिचालन अनुसंधान का संचालन करना।
  • आधुनिकतम कृषि में अपने ज्ञान को अद्यतन करने के लिए किसानों को जोखिम और शिक्षा का प्रबंध करने के लिए।
  • बैंक ऋण के माध्यम से स्थायी विकास प्राप्त करने के लिए
लागू परियोजनाएं
प्रशिक्षण कार्यक्रम
किसानों को लाभ नहीं हुआ
51
22 9 3
लिफ्ट प्लान: पुणे
क्षेत्र में उजनी बैकवाटर के पास बैंक फाइनेंस के साथ पूरा हुआ जिसमें एकड़ में खेती की गई
13
400
मूल्यांकन अध्ययन14
माली (बागवानी) प्रशिक्षण कार्यक्रम (युवाओं का प्रशिक्षण)45
पशु स्वास्थ्य शिविर का संचालन नि:शुल्क किया गया25
प्रस्तावित गतिविधियां
  • निरंतर आधार पर किसानों / उधारकर्ताओं के प्रशिक्षण के लिए प्रस्तावित बुनियादी संरचना का उपयोग करना।
  • ऋण परामर्श सेवाएं प्रदान करना
  • दौंड बारामती और इंदापुर तालुकों के लवण प्रभावित इलाकों में खेती (ताजे पानी के झींगे) जैसी गतिविधियों के लिए एक्सपोजर विज़िट प्रदान करना
  • पुणे जिले में हमारी शाखाओं के सेवा क्षेत्र में नो फ्रिल अकाउंट और ऑल पर्पज कैश क्रेडिट (जीपीसी) प्रदान करके किसानों के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए।